IMPS Full Form क्या होती है? IMPS क्या होता है?

मोबाइल बैंकिंग का तो लगभग हम सभी इस्तेमाल करते है फिर कभी किसी को पैसे ट्रांसफर करने हो तो IMPS का उपयोग भी करते है। कुछ लोग NEFT तो कुछ लोग RTGS का इस्तेमाल करते है। खैर हम सब ने कभी न कभी IMPS का इस्तेमाल तो किया है। क्या आपने कभी सोचा है की इस IMPS की Full Form क्या होती है? या फिर IMPS कैसे काम करता है या फिर IMPS की Full Form हिंदी में क्या होती है? अगर नहीं, तो इस आर्टिकल को जरूर पढ़े।

इस आर्टिकल में मैं आपको बताऊंगा की IMPS Full Form क्या होती है? IMPS Full Form In hindi क्या होती है? इसके साथ IMPS क्या होता है? IMPS काम कैसे करता है? और IMPS के फायदे क्या होते है? IMPS करते समय किन किन बातो का ध्यान रखना चाहिए और IMPS की मुख्य जानकारी क्या है? इसके साथ मैं आपको IMPS से सम्बंधित FAQ’s भी बताऊंगा। जिससे आपको IMPS को समझने में काफी मदद मिलेगी।

IMPS Full Form क्या होती है?

IMPS Full Form “Immediate Payment Service” होती है। IMPS भारत में एक तुरंत भुगतान इंटर-बैंक इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर सिस्टम है।

IMPS Full Form In Hindi

IMPS Full Form In Hindi “तत्काल भुगतान सेवा” होती है।

IMPS क्या होता है?

IMPS एक वास्तविक समय भुगतान सेवा है जो चौबीसों घंटे उपलब्ध होती है। यह सेवा NPCI यानी नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया द्वारा दी जाती है जो ग्राहकों को बैंकों और RBI द्वारा अधिकृत प्रीपेड भुगतान साधन जारीकर्ताओं के माध्यम से तुरंत धन हस्तांतरित करने का अधिकार देती है।

आसान शब्दों में बताओ तो, IMPS नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ़ इंडिया की एक पहल है। यह एक ऐसी सेवा है जिसके माध्यम से एक ही बैंक या दूसरे बैंकों के खातों में एक खाते से दूसरे खाते में तुरंत धन हस्तांतरित किया जा सकता है।

imps full form

IMPS मोबाइल फोन के माध्यम से एक इंटर-बैंक इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर सेवा प्रदान करता है। NEFT और RTGS के विपरीत, यह सेवा बैंक की छुट्टियों सहित पूरे वर्ष में 24*7 उपलब्ध होती है।

IMPS एक जोरदार सेवा है जो भारत भर में बैंकों के भीतर तुरंत धनराशि के हस्तांतरण की अनुमति देता है जो न केवल सुरक्षित है बल्कि किफायती भी है। वर्तमान में IMPS में, 243 सदस्य रहते हैं जिसमें बैंक और PPI शामिल हैं। यह सुविधा NPCI द्वारा अपने मौजूदा NFS स्विच के माध्यम से प्रदान की जाती है।

IMPS का मुख्य उद्देश्य क्या है?

  • मोबाइल आधारित बैंकिंग सेवाओं की पूरी श्रृंखला के लिए आधार बनाने के लिए।
  • लाभार्थी के मोबाइल नंबर के साथ भुगतान को सरल बनाना।
  • बैंक ग्राहकों को अपने बैंक खातों तक पहुँचने के लिए एक चैनल के रूप में मोबाइल डिवाइस का उपयोग करने और धन को भेजने में सक्षम बनाने के लिए।
  • भारतीय रिज़र्व बैंक के लक्ष्य को खुदरा भुगतान के इलेक्ट्रॉनिकीकरण में उप-सेवा देना।
  • RBI मोबाइल पेमेंट दिशानिर्देश 2008 के साथ भारत में पहले से पेश किए गए मोबाइल भुगतान प्रणालियों को सुविधाजनक बनाने के लिए एक आसान और सुरक्षित तरीके से बैंकों और मोबाइल ऑपरेटरों के बीच अंतर-संचालन योग्य बनाना है।

IMPS कैसे काम करता है?

इसका प्रबंधन NPCI यानी नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया द्वारा किया जाता है और इसे मौजूदा राष्ट्रीय वित्तीय स्विच नेटवर्क पर बनाया गया है। 2010 में, NPCI ने शुरुआत में 4 सदस्य बैंकों (स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, बैंक ऑफ इंडिया, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया और आईसीआईसीआई बैंक) के साथ मोबाइल भुगतान प्रणाली के लिए एक पायलट किया, और येस बैंक, एक्सिस बैंक और एचडीएफसी को शामिल करने के लिए इसका विस्तार किया।

IMPS के लिए बैंक में रजिस्ट्रेशन के बाद, दोनों व्यक्तियों को उनके संबंधित बैंकों से एक MMID Code जारी किया जाता है। यह 7 अंकों का संख्यात्मक कोड होता है।

IMPS करने पर कितना शुल्क लगता है?

10,000 तक की लेनदेन पर 2.5 रुपए + GST का शुल्क

10,000 से 1,00,000 तक की लेनदेन पर 5 रुपए + GST शुल्क

1,00,000 से 2,00,000 तक की लेंन्डे पर 15 रुपए + GST शुल्क

IMPS के फायदे क्या होते है?

  1. IMPS में आप 24/7 अर्थात 365 दिन लेनदेन कर सकते है।
  2. IMPS में तुरंत पैसे ट्रांसफर होते है।
  3. IMPS में लेनदेन शुल्क बहुत कम होता है।
  4. IMPS आसान और सुरक्षित है।
  5. IMPS में लेनदेन की सीमा भी कम है यानी IMPS में आप 1 रुपए भी ट्रांसफर कर सकते है।

IMPS करते समय किन किन बातो का ध्यान रखे?

IMPS करते समय सारी जानकारी को अच्छी तरह दो बार जाँच ले, क्योंकि गलत जानकारी होने पर अगर आपने IMPS कर दिया तो इससे भुगतान हो जाएगा और आपके बैंक से पैसे कट जाएंगे। और याद रहे इसमें एक बार भुगतान होने के बाद उसे रोका या रद्द नहीं किया जा सकता है।

IMPS की मुख्य जानकारी क्या है?

IMPS को सार्वजनिक रूप से 22 नवंबर 2010 को लॉन्च किया गया था।

लगभग 200 मिलियन IMPS लेनदेन भारत में हर महीने लगभग 20 बिलियन डॉलर की लेनदेन राशि होती है।

वर्तमान में, 53 वाणिज्यिक बैंक, 101 ग्रामीण / जिला / शहरी और सहकारी बैंक हैं, और 24 PPi IMPS सेवा के लिए साइन अप हैं।

IMPS में भाग लेने वाले बैंकों के लिए योग्य मानदंड यह है कि इकाई के पास भारतीय रिजर्व बैंक से वैध बैंकिंग या प्रीपेड भुगतान साधन लाइसेंस होना चाहिए।

IMPS में कम से कम 1 रुपए और ज्यादा से ज्यादा 2 लाख रुपए तक पैसे ट्रांसफर कर सकते है।

IMPS के महत्वपूर्ण FAQ’s

MMID क्या है? मैं इसे कैसे प्राप्त कर सकता हूँ?

MMID एक 7 अंकों की संख्या है, जो बैंकों द्वारा जारी की जाती है। MMID एक इनपुट है जिसे मोबाइल नंबर के साथ संयोजित करने से फण्ड ट्रांसफर करने की सुविधा मिलती है। MMID और मोबाइल नंबर का संयोजन एक खाता संख्या के साथ विशिष्ट रूप से जुड़ा हुआ है और लाभार्थी के जानकारी को पहचानने में मदद करता है। विभिन्न MMID को एक ही मोबाइल नंबर से जोड़ा जा सकता है।

IMPS से लेनदेन करने के लिए ग्राहक के लिए क्या विकल्प उपलब्ध हैं?

IMPS से लेनदेन के लिए ग्राहक के पास तीन विकप्ल होते है:-
1. ग्राहक लाभार्थी के मोबाइल नंबर और एमएमआईडी का उपयोग कर सकता है।
2. ग्राहक लाभार्थी की खाता संख्या और IFSC कोड का उपयोग कर सकता है।
3. ग्राहक लाभार्थी का आधार संख्या का उपयोग कर सकता है।

IMPS की पेशकश कौन करता है?

बैंक और गैर-बैंक इकाइयां (RBI अधिकृत PPI’s ) पूरे भारत में ग्राहकों को IMPS की पेशकश कर रहे हैं। IMPS सेवाएं प्रदान करने वाले सदस्य बैंकों और PPI की सूची उपलब्ध है। आप इसे NPCI की वेबसाइट पर देख सकते है। https://www.npci.org.in/links-imps-members

क्या मुझे IMPS के माध्यम से धन भेजने के लिए पंजीकरण करने की आवश्यकता है?

मोबाइल फोन पर IMPS का उपयोग करने के लिए, ग्राहक को अपने व्यक्तिगत बैंक के साथ मोबाइल बैंकिंग के लिए पंजीकरण करना होगा।हालाँकि, बैंक शाखा, इंटरनेट बैंकिंग और एटीएम का उपयोग करके IMPS करने के लिए, किसी भी मोबाइल बैंकिंग पंजीकरण की आवश्यकता नहीं है।

मैं IMPS कैसे Enable करूं?

Sender (भेजनेवाला) –  इसके लिए आपको मोबाइल बैंकिंग रजिस्ट्रेशन करना होगा यदि आप मोबाइल के माध्यम से लेनदेन शुरू करना चाहता है तो इंटरनेट, एटीएम और बैंक शाखा चैनलों के लिए, मोबाइल रजिस्ट्रेशन की कोई आवश्यकता नहीं है।
Receiver (प्राप्तकर्ता) – बैंक से अपना MMID ले और पैसे भेजने वाले के साथ साझा करें या वैकल्पिक रूप से धन प्राप्त करने के लिए अपना खाता नंबर और IFSC कोड या आधार नंबर साझा करें। रिसीवर लेनदेन के लिए SMS अलर्ट प्राप्त करने के लिए अपने मोबाइल नंबर को रजिस्टर करा सकता है।

क्या IMPS का लाभ उठाने के लिए ग्राहक के पास बैंक खाता होना चाहिए?

IMPS सर्विस का लाभ बैंक का ग्राहक और बिना बैंक का ग्राहक दोनों उठा सकते है। बस फर्क इतना है की बिना बैंक वाले ग्राहकों को पहले भुगतान करना होगा। ऐसा वह PPI यानी पूर्व-भुगतान भुगतान साधन जारीकर्ता का उपयोग करके IMPS से लेनदेन कर सकते है।

क्या ग्राहक एक से अधिक खातों को एक ही मोबाइल नंबर से लिंक कर सकता है?

हां, ग्राहक एक से अधिक खातों को एक ही मोबाइल नंबर से लिंक कर सकता है। हालांकि प्रत्येक खाते का एक अलग MMID होगा।

क्या लाभार्थी ग्राहक को IMPS के लिए पंजीकरण करना आवश्यक है?

बैंक खाते के जानकारी (नाम, खाता संख्या, आईएफएससी कोड वगरैह) या आधार संख्या का उपयोग करके धन प्राप्त करने पर पंजीकरण की आवश्यकता नहीं है। लेकिन हाँ, मोबाइल नंबर और MMID का उपयोग करके धन प्राप्त करने के लिए, मोबाइल पंजीकरण अनिवार्य है।

क्या IMPS पर पेमेंट को रोकने की कोई सुविधा है।

नहीं, IMPS एक तत्काल भुगतान सुविधा है एक बार भुगतान करने के बाद इसे रोका या रद्द नहीं किया जा सकता है।

अगर मैं अपना मोबाइल नंबर बदल देता हूं, तो क्या मुझे फिर से मोबाइल बैंकिंग के लिए पंजीकरण करने की आवश्यकता है?

हां, ग्राहक को अपने बैंक के साथ अपना नया मोबाइल नंबर अपडेट करना होगा। ऐसा आप अपने बैंक की ब्रांच में जाकर कर सकते है।

यदि मैं अपना टेलीकॉम सेवा प्रदाता कंपनी बदल देता हूं, तो क्या मुझे फिर से पंजीकरण करने की आवश्यकता है?

यदि मोबाइल नंबर में कोई परिवर्तन नहीं है, तो फिर से पंजीकरण की कोई आवश्यकता नहीं है, केवल मोबाइल नंबर में परिवर्तन होने पर दुबारा पंजीकरण किया जाता है।

मैं IMPS लेनदेन के संदर्भ में शिकायत कहां दर्ज करा सकता हूँ?

आप लेनदेन से संबंधित अपने बैंक में IMPS की शिकायत दर्ज करा सकते हैं।

निष्कर्ष

मुझे उम्मीद है की आपको IMPS Full Form और आईएमपीएस से सम्बंधित जानकारी समझ आई होगी और अच्छी भी लगी होगी। अगर आपको यह आर्टिकल IMPS Full Form क्या होती है? अच्छा लगा हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे। ताकि वह भी IMPS के बारे में विस्तार से जानकारी प्राप्त कर सके। इसके अलावा अगर आपको IMPS से संबधित कोई भी दिक्कत हो तो आप हमे निचे कमेंट करके पूछ सकते है।

यह भी पढ़े

NEFT Full Form क्या होती है? NEFT क्या होता है?

RTGS Full Form क्या होती है? RTGS क्या होता है?

UPI Full Form क्या होती है? UPI क्या होता है?

Spread the love

Leave a Comment