RBI Full Form क्या होती है? RBI क्या है?

क्या आप जानते है की RBI Full Form क्या होती है? या RBI क्या है? या RBI कैसे काम करता है? या RBI की Full Form हिंदी में क्या होती है। अगर नहीं तो आपको यह आर्टिकल जरूर पढ़ना चाहिए।

इस आर्टिकल में मैं आपको बताऊंगा की RBI की Full Form क्या होती है? RBI क्या है? RBI की Full Form हिंदी में क्या होती है? इसके साथ मैं आपको बताऊंगा की RBI काम कैसे करता है? इसके साथ साथ मैं आपको बताऊंगा की RBI की History क्या है और सबसे महत्वपूर्ण बात मैं आपके साथ RBI के FAQ’s भी शेयर करूँगा। जो आपकी सारी दुविधा को ख़त्म कर देगा। तो चलिए फिर देखते है।

RBI Full Form क्या होती है?

RBI Full Form “Reserve Bank of India” होती है। RBI भारत का केंद्रीय बैंक है, जो भारतीय रुपये के मुद्दे और आपूर्ति को नियंत्रित करता है। RBI पूरे भारत में बैंकिंग का नियामक (Regulator) है। भारतीय रिजर्व बैंक भारत सरकार की विकास रणनीति में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

RBI Full Form In Hindi

RBI की Full Form हिंदी में “भारतीय रिज़र्व बैंक” होती है।

RBI क्या है?

RBI भारत का केंद्रीय बैंक है जिसे भारतीय रिज़र्व बैंक अधिनियम के तहत 1 अप्रैल 1935 को स्थापित किया गया था। भारतीय रिज़र्व बैंक भारत में वित्तीय स्थिरता बनाने के लिए मौद्रिक नीति का उपयोग करता है।

भारतीय रिजर्व बैंक भारत में काम करने वाले वाणिज्यिक बैंकों और गैर-बैंकिंग वित्त कंपनियों को नियंत्रित करता है। यह बैंकिंग प्रणाली और मुद्रा बाजार के नेता के रूप में कार्य करता है। यह देश में मुद्रा आपूर्ति और ऋण को नियंत्रित करता है। भारतीय रिजर्व बैंक भारत की मौद्रिक नीति का पालन करता है और भारत में बैंकों और गैर-बैंकिंग वित्त कंपनियों पर पर्यवेक्षण और नियंत्रण रखता है।

rbi full form

भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा अपनाई गई पहल में बैंक निरीक्षणों का पुनर्गठन, बैंकों और वित्तीय संस्थानों की ऑफ-साइट निगरानी शुरू करना और प्रवक्ता की भूमिका को मजबूत करना शामिल है।

RBI एशियन क्लियरिंग यूनियन का सदस्य बैंक है।

RBI कैसे काम करता है?

सबसे पहले RBI भारत की मौद्रिक नीति (monetary policy) तैयार करता है, लागू करता है और उसकी निगरानी करता है। बैंक का प्रबंधन उद्देश्य मूल्य स्थिरता (price stability) बनाए रखना है और यह सुनिश्चित करना है कि क्रेडिट उत्पादक आर्थिक क्षेत्रों में बह रहा है।

RBI विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम 1999 के तहत सभी विदेशी मुद्रा का प्रबंधन भी करता है। यह अधिनियम RBI को भारत में विदेशी मुद्रा बाजार के विकास और स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए बाहरी व्यापार और भुगतान को सुविधाजनक बनाने की अनुमति देता है।

RBI कुलमिलाकर वित्तीय प्रणाली में रेगुलेटर और सुपरवाइजर के रूप में कार्य करता है।

RBI की History क्या है?

प्रथम विश्व युद्ध के बाद आर्थिक परेशानी का जवाब देने के लिए RBI को मूल रूप से 1 अप्रैल 1935 में एक निजी संस्था के रूप में स्थापित किया गया था। हालाँकि निजी तौर पर शुरू में इसका स्वामित्व था, लेकिन 1949 में इसका राष्ट्रीयकरण कर दिया गया था और तब से यह पूरी तरह से भारत सरकार के स्वामित्व में है।

RBI ने डॉक्टर भीमराव अंबेडकर द्वारा प्रस्तुत की गई दिशा-निर्देशों, कार्य शैली और दृष्टिकोण के अनुसार “The Problem of Rupee” शीर्षक से अपनी पुस्तक में परिकल्पना की गई थी। इसकी उत्पत्ति और इसके समाधान और हिल्टन यंग कमीशन को प्रस्तुत किया गया।

और आखिरकार, केंद्रीय विधान सभा ने आरबीआई अधिनियम 1934 के रूप में इन दिशानिर्देशों को पारित किया।

बैंक की स्थापना भारतीय मुद्रा और वित्त पर 1926 के Royal Commission की सिफारिशों के आधार पर की गई थी, जिसे Hilton Young Commission के नाम से भी जाना जाता है। RBI की मुहर के लिए मूल पसंद ईस्ट इंडिया कंपनी की डबल मोहर थी, जिसमें शेर और खजूर के पेड़ का स्केच था। हालांकि, शेर को भारत के राष्ट्रीय पशु के साथ बदलने का फैसला किया गया था।

अगस्त 1947 में भारत के विभाजन के बाद, जून 1948 तक RBI बैंक ने पाकिस्तान के लिए केंद्रीय बैंक के रूप में कार्य किया, जब स्टेट बैंक ऑफ़ पाकिस्तान ने ऑपरेशन शुरू किया।

इसके बाद 1950 के दशक में, भारत सरकार ने अपने पहले प्रधान मंत्री जवाहरलाल नेहरू के नेतृत्व में, एक केंद्रीय योजनाबद्ध आर्थिक नीति विकसित की जो कृषि क्षेत्र पर केंद्रित थी। बैंक दुर्घटनाओं के परिणामस्वरूप, RBI को एक जमा बीमा प्रणाली की स्थापना और निगरानी करने का अनुरोध किया गया था। राष्ट्रीय बैंक प्रणाली में विश्वास बहाल करने के लिए, इसे 7 दिसंबर 1961 को शुरू किया गया था।

इसके बाद सन 1969 में, इंदिरा गांधी के नेतृत्व वाली सरकार ने 14 प्रमुख वाणिज्यिक बैंकों का राष्ट्रीयकरण किया। इसके बाद सन 1980 में इंदिरा गांधी की सत्ता में वापसी के बाद, आगे और छह बैंकों का राष्ट्रीयकरण किया।

अर्थव्यवस्था और विशेष रूप से वित्तीय क्षेत्र का विनियमन 1970 और 1980 के दशक में भारत सरकार द्वारा प्रबलित किया गया था। शाखा को एक शहर में हर नए स्थापित कार्यालय के लिए देश में दो नए कार्यालय स्थापित करने के लिए मजबूर किया गया था। 1973 में तेल संकट के कारण मुद्रास्फीति में वृद्धि हुई, और RBI ने प्रभावों को कम करने के लिए मौद्रिक नीति को प्रतिबंधित किया। बहुत सी समितियों ने 1985 और 1991 के बीच भारतीय अर्थव्यवस्था का विश्लेषण किया।

इसके बाद केंद्रीय बैंक ने 3 फरवरी 1995 को बैंकनोटों के उत्पादन के लिए एक सहायक कंपनी- भारतीय रिजर्व बैंक नोट मुद्रा प्राइवेट लिमिटेड की स्थापना की।

इसके बाद विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम, 1999 जून 2000 में लागू हुआ। इसके बाद साल 2016 में, भारत सरकार ने मौद्रिक नीति समिति (MPC) की स्थापना के लिए RBI अधिनियम में संशोधन किया।

अप्रैल 2018 में, RBI ने घोषणा की कि “बिटकॉइन सहित, किसी भी व्यक्ति या व्यापारिक संस्थाओं से निपटने या आभासी मुद्राओं को निपटाने के लिए RBi द्वारा विनियमित इकाइयां किसी के साथ सौदा नहीं करेंगी या सेवाएं प्रदान नहीं करेंगी। हलाकि RBI ने बाद में स्पष्ट किया कि उसने “वर्चुअल करेंसी” को प्रतिबंधित नहीं किया है।

भारत के सर्वोच्च न्यायालय के तीन-न्यायाधीशों के एक पैनल ने 4 मार्च 2020 को एक निर्णय जारी किया कि RBi अपने फैसले को सही ठहराने के लिए आभासी मुद्राओं की हैंडलिंग के माध्यम से “इसके विनियमित संस्थाओं द्वारा किसी भी नुकसान का कम से कम कुछ झलक दिखाने” में विफल रहा था।

दरअसल इंटरनेट और मोबाइल एसोसिएशन ऑफ इंडिया द्वारा अदालत में चुनौती दायर की गई थी, जिसके सदस्यों में कुछ क्रिप्टोक्यूरेंसी एक्सचेंज शामिल हैं जिनके व्यवसाय RBI के 2018 के आदेश का पालन कर रहे थे।

RBI के FAQ’s

भारतीय रिजर्व बैंक की स्थापना कब हुई थी?

भारतीय रिजर्व बैंक को 1 अप्रैल 1935 में में स्थापित किया गया था।

भारतीय रिजर्व बैंक की स्थापना किसने की थी।

भारतीय रिजर्व बैंक की स्थापना “हिल्टन यंग कमीशन” की सिफारिशों के आधार पर की गई थी लेकिन भारत के अर्थशास्त्री बाबासाहेब अंबेडकर ने भारतीय रिजर्व बैंक की स्थापना में अहम भूमिका निभाई थी।

भारतीय रिजर्व बैंक का राष्ट्रीयकरण कब हुआ था।

भारतीय रिजर्व बैंक का राष्ट्रीयकरण 1 जनवरी 1949 को हुआ था।

भारतीय रिजर्व बैंक का मुख्यालय कहाँ है?

RBI का केंद्रीय कार्यालय कलकत्ता में स्थापित किया गया था लेकिन 1937 में इसे मुंबई में स्थानांतरित कर दिया गया। तो अब भारतीय रिजर्व बैंक का मुख्यालय मुंबई में है।

भारतीय रिजर्व बैंक के प्रतीक चिन्ह पर कौन सा पशु अंकित है?

भारतीय रिजर्व बैंक का प्रतीक चिन्ह “बाघ और पीछे खजूर के पेड़” है। इसे ईस्ट इंडिया कंपनी के प्रतीक चिन्ह से लिया गया है।

भारतीय रिजर्व बैंक का पुराना नाम क्या है?

भारतीय रिजर्व बैंक का कोई पुराना नाम नहीं है जब इसकी स्थापना हुई थी तभी से इसका नाम भारतीय रिजर्व बैंक है कुछ लोग इंटरनेट पर यह बताते है की RBI का पुराना नाम Imperial Bank of India है लेकिन यह गलत है। इंपीरियल बैंक ऑफ इंडिया भारतीय उपमहाद्वीप के सबसे पुराने और सबसे बड़े वाणिज्यिक बैंक में से एक था जिसे 1955 में भारतीय स्टेट बैंक में बदल गया था।

वर्त्तमान 2020 में RBI का Governor कौन है?

11 दिसंबर 2018 से वर्तमान समय तक RBI के गवर्नर “शक्तिकांत दास” है।

आरबीआई के गवर्नर की नियुक्ति कौन करता है?

भारतीय रिज़र्व बैंक अधिनियम 1934 की धारा 8 (1) (ए) के अनुसार RBI के बोर्ड में एक गवर्नर और डिप्टी गवर्नर जो कि 4 से अधिक न हो को केंद्र सरकार द्वारा नियुक्त करती है।  हालांकि, RBI के गवर्नर को प्रधानमंत्री कार्यालय द्वारा केंद्रीय वित्त मंत्री की सिफारिश पर नियुक्त किया जाता है।

RBI का मुख्य उद्देश्य क्या है?

RBI का मुख्य उद्देश्य भारत में वित्तीय क्षेत्र की समेकित निगरानी करना है, जो वाणिज्यिक बैंकों, वित्तीय संस्थानों और गैर-बैंकिंग वित्त फर्मों से बना है।

निष्कर्ष

मुझे उम्मीद है की आपको RBI Full Form क्या होती है पर हमारे द्वारा जानकारीपूर्ण आर्टिकल अच्छा लगा होगा। अगर आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करे। ताकि वह भी rbi के बारे में जानकारी प्राप्त कर सके और अगर आपको RBI से सम्बंधित किसी भी तरह की जानकारी चाहिए हो तो आप हमे निचे कमेंट करके पूछ सकते है।

Spread the love

Leave a Comment