TDS Full Form क्या होती है? TDS क्या होता है?

क्या आप जानते है की TDS की Full Form क्या होती है? या TDS क्या होता है या फिर TDS की Full Form हिंदी में क्या होती है? या फिर TDS Return क्या होता है वैगरह वैगरह अगर नहीं तो इस आर्टिकल में आपको TDS के बारे में सारी जानकारी मिलेगी।

इस आर्टिकल में मैं आपको बताऊंगा की TDS की Full Form क्या होती है? TDS क्या होता है? TDS की Full Form हिंदी में क्या होती है? इसके साथ मैं आपको TDS के बारे में कई सारी जरुरी जानकारी बताऊंगा। तो जुड़े रहिये इस आर्टिकल के साथ और बिना रुके पढ़ते रहिये।

TDS Full Form क्या होती है?

TDS की Full Form “Tax Deducted at Source” होती है। TDS आय, लाभांश या संपत्ति की बिक्री पर कर इकट्ठा करने का एक साधन है।

TDS Full Form In Hindi

TDS की Full Form हिंदी में “स्रोत पर कर कटौती” होती है।

TDS क्या होता है?

TDS भारत में उपयोग किए जाने वाले कर संग्रह विधि में से एक है। यह भारतीय आयकर अधिनियम 1961 के तहत संचालित होता है और केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड द्वारा प्रबंधित किया जाता है।

यह भारतीय राजस्व सेवा द्वारा प्रबंधित राजस्व विभाग का एक हिस्सा है। एक कंपनी में, कंपनी के नियोक्ता अपने कर्मचारी से tax एकत्र करते हैं और इसे सीधे आयकर विभाग को भेजते हैं।

tds full form

यह टैक्स एक खास समय के भीतर भारत सरकार के खजाने में जमा करना होता है। इस टैक्स के लिए कटौती की एक समान दर नहीं है। यह उस इकाई के आधार पर 1% से 30% या अधिक तक हो सकता है, जिस पर यह लागू है।

Deductor और Deductee TDS की प्रक्रिया में शामिल दो पहचान हैं।

Deductor: Deductor एक व्यक्ति या एक कंपनी होता है जो भुगतान किए जाने से पहले करों में कटौती के लिए जिम्मेदार होता है।

Deductee: Deductee वह व्यक्ति होता है जो कर का भुगतान करने के लिए उत्तरदायी होता है या जिसमें से कर काटा जाता है।

आसान भाषा में बात करे तो Deductor वह व्यक्ति या कंपनी होती है जो आपकी सैलरी का कुछ प्रतिशत हिस्सा TDS के रूप में काट लेती है और उस राशि को सरकार को दे देती है। ऐसे में वह व्यक्ति या कंपनी Deductor हुआ। और आप जिसकी सैलरी में से TDS को काटा गया है आप Deductee हो गए।

TDS एक तरह का एडवांस टैक्स है। यह वह कर है जिसे समय-समय पर सरकार के पास जमा करना होता है और समय पर उसी का बकाया कटौतीकर्ता के पास होता है। कटौती के लिए, कटौती किए गए TDS को उनके ITR दाखिल करने के बाद कर वापसी के रूप में दावा किया जा सकता है।

एक कटौतीकर्ता (deductor) को कटे हुए TDS को सरकार को जमा करना होता है और उसी का विवरण TDS Return के रूप में दाखिल करना होता है। TDS Return quarterly दाखिल किया जाता है।

विभिन्न प्रकार के TDS कटौती को विभिन्न TDS Return फॉर्म का उपयोग करके दर्ज किया जाना है।

TDS किस किस भुगतान पर काटा जाता है?

TDS को कई भुगतान पेमेंट पर काटा जाता है जैसे Salary, Rent, Brokerage, Commission, Professional Fees, Dividend, Interest, Contract Payments, Interest payments by banks, Consultation fees आदि।

उदहारण के लिए:- अगर आप एक व्यापारी है और आपकी कंपनी में 100 कर्मचारी काम करते है तो जब आप महीने के अंत में उन्हें सैलरी दोगे तो आपको उनकी सैलरी में से tds काट काटना होगा। और टीडीएस काटने के बाद उन्हें सैलरी देनी होगी।

इसके बाद टीडीएस से जमा कर राशि को सरकार को देना होगा। अगर आप ऐसा नहीं करते है तो फिर सरकार आप पर भारी जुर्माना लगा सकती है।

TDS किस किस भुगतान पर काटा नहीं जाता है?

जब आप भारत सरकार या RBI को भुगतान करते हैं, तो कोई TDS काटा नहीं जाता है। इसके अलावा निम्नलिखित भुगतान करने या धन प्राप्त करने के मामले में कोई TDS काटा नहीं जाता है:-

  • LIC, UTI और अन्य बीमा या कोओपरेटिव सोसाइटीज।
  • बैंक
  • केंद्रीय या राज्य वित्तीय निगम।
  • NRE खाते में प्राप्त ब्याज।
  • KVP, Indira Vikas Party, या NSC में ब्याज।
  • सभी संस्थानों को NO-TDS के तहत अधिसूचित किया गया।
  • आयकर विभाग से धन वापसी या डायरेक्ट टैक्स के तहत मिलने वाला ब्याज।
  • Recurring Deposit से प्राप्त ब्याज या कोओपरेटिव सोसाइटी में बचत खाता।
  • इनके अलावा, ऐसे अन्य संस्थान हैं जहां TDS लागू है, उदाहरण के लिए, मोटर वाहन दावा अधिकरण (MVCT) से मुआवजे पर ब्याज।

करदाताओं को यह जांचना आवश्यक है कि क्या TDS उनकी आय पर लागू है या नहीं।

TDS के प्रकार और दरें (Rates)

TDS का अनुमान एक निश्चित सीमा के आधार पर लगाया जाता है, अर्थात किसी व्यक्ति की आय का अधिकतम स्तर जिसके बाद उसकी अगली आय से TDS काटा जाएगा। TDS वास्तविक देय सीमा के एक से तीन प्रतिशत तक हो सकता है और इसे कुल आय के प्रतिशत के रूप में घटाया जाता है।

Income Tax SectionTDS RateHighest Limit
192आय के अनुसार कर स्तरआय के स्तर के अनुसार
19310% आय ब्याज और सिक्योरिटी परशून्य
19410% आय deemed dividends परशून्य
194Aसिक्योरिटी पर ब्याज के अलावा अन्य आय से 10%5,000 रुपए
194B30% लॉटरी या किसी भी खेल से संबंधित जीत पर10,000 रुपए
194BB30% घोड़ों की दौड़ से होने वाली आय पर5,000 रुपए
194C1% व्यक्तियों और HUF के लिए contracts या sub contracts से कमाई पर और 2% कॉर्पोरेट्स पर30,000 रुपए
194D10% बीमा आयोगों से आय पर20,000 रुपए
194EE20% एनएसएस जमा2,500 रुपए
194F20% UTI या MF इकाइयाँ पुनर्खरीद के लिए किए गए भुगतान परशून्य
194G10% लॉटरी टिकट बेचने से मिलने वाले कमीशन पर1,000 रुपए
194H10% कमीशन या दलाली की कमाई पर5,000 रुपए
194I2% मशीनरी और संयंत्र के किराए पर10% भवन, भूमि, फिटिंग और फर्नीचर के किराए पर
1,08,000 रुपए
194J10% पेशेवर या तकनीकी सेवाओं के लिए फीस परशून्य
194L10% कुछ अचल संपत्ति खरीदते समय एक निवासी को किए गए मुआवजे के भुगतान पर1,00,000 रुपए

Rates for deduct of tax at source

TDS पर महत्वपूर्ण FAQ

Deductor द्वारा TDS की कटौती के लिए न्यूनतम सैलरी क्या है?

यदि कर्मचारी आयकर स्तर के अंतर्गत आता है, तो उसके वेतन पर TDS काटा जाएगा। दूसरे शब्दों में, एक व्यक्ति जिसकी आय 2.5 लाख रुपये से कम है, एक वरिष्ठ नागरिक जिसका वेतन 3 लाख रुपये से कम है और वरिष्ठ नागरिक (80 वर्ष की आयु से ऊपर) जिनकी आय 5 लाख रुपये से कम है, TDS के तहत नहीं है। इसलिए इनकी सैलरी से कोई TDS नहीं काटा जाएगा।

क्या TDS सिर्फ सैलरी पर ही लागू होता है?

नहीं TDS सिर्फ सैलरी पर ही नहीं लगता है बल्कि और भी कई लेन देन पर लगता है जिसे आप ऊपर देख सकते है हमने इसके बारे में अच्छी तरह समझाया है।

TDS के रूप में कटौती की गई राशि को कैसे जानें और क्या यह मेरे लिए जमा किया गया है या नहीं?

Deductor या आपके नियोक्ता को आपको TDS प्रमाणपत्र (फॉर्म 16 और 16A) प्रदान करना होगा। TDS प्रमाणपत्र उस राशि की पुष्टि करते हैं जो TDS के रूप में काटी जाती है। इसके अलावा फॉर्म 26AS को आयकर ई-फिलिंग पोर्टल पर भी देखा जा सकता है।

यदि TDS Deductor द्वारा नहीं काटा जाता है या आयकर अधिकारियों को जमा नहीं किया जाता है तो क्या कार्रवाई की जाएगी?

आयकर अधिनियम की धारा 201 के अनुसार, यदि deductor करों में कटौती करने या एकत्रित राशि को जमा करने में विफल रहता है, तो वह सरकार को दी जाने वाली राशि पर ब्याज का भुगतान करेगा। जो ब्याज लागू होता है वह यह है:- 1% हर महीने या फिर पेंडिंग टैक्स पर ब्याज महीने के एक हिस्से में।
धारा 271C के अनुसार, कर का भुगतान नहीं किया गया या भुगतान नहीं किए गए कर के बराबर राशि का जुर्माना कटौतीकर्ता को चुकाना पड़ सकता है।

यदि Deductor कर जमा करने या जमा करने में विफल रहता है तो क्या किसी कर्मचारी को जुर्माना देना होगा?

नहीं। केवल TDS से संबंधित घटनाओं के लिए कटौतीकर्ता जिम्मेदार है। उसे यह सुनिश्चित करना होगा कि TDS को ठीक से एकत्र किया जाए और सरकार को जमा किया जाए। अगर deductor ऐसा नहीं करता है तो इसके लिए उसे सरकार को जुर्माना देना होगा। इससे कर्मचारियों का कोई लेना देना नहीं है।

निष्कर्ष

मुझे उम्मीद है की आपको TDS Full Form क्या होती है पर लिखा आर्टिकल अच्छा लगा होगा। अगर आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करे। और अगर आपका TDS से सम्बंधित कोई भी सवाल हो तो आप हमे निचे कमेंट करके पूछ सकते है।

यह भी पढ़े

Google Tax क्या होता है? Google Tax कैसे काम करता है?

TIN Full Form क्या होती है? TIN क्या होता है?

GST Full Form क्या होती है? GST क्या है?

Spread the love

Leave a Comment